Wajid khan first death anniversary his wife Kamalrukh remembered | First death anniversary

डिजिटल डेस्क,मुंबई। साल 2020 से लेकर अब तक बॉलीवुड की कई हस्तियों ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। उनमें से एक संगीतकार वाजिद खान भी थे। वाजिद खान का निधन आज ही के दिन 2020 में हुआ था। उनकी पहली डेथ एनिवर्सरी पर पत्नी कमलरुख और उनके भाई साजिद खान ने उन्हें याद किया। जहां कमलरुख ने वाजिद के लिए एक प्यारा सा नोट सोशल मीडिया पर लिखा तो वहीं भाई साजिद खान ने अपना और वाजिद का एक पुराना वीडियो शेयर करते हुए याद किया है।

देखिए, कमलरुख का पोस्ट

कमलरुख ने वाजिद की पहली पुण्यतिथि पर अपनी और वाजिद की एक पुरानी फोटो शेयर की है। फोटो पोस्ट करते हुए कमलरुख ने लिखा कि, वाजिद के निधन को एक साल हो चुका है और हमने उनके परिवार के रूप में खुद को दुख में दफनाने के बजाय उनके जीवन, अच्छे समय और अच्छी यादों का जश्न मनाने के लिए चुना है। हम उसकी अनंतता का जश्न मनाते हैं। मैं उनके (वाजिद) बारे में सोचती हूं जब मैं अर्शी और हरेन को देखती हूं – उनकी मुस्कान, उनकी आंखों, उनके संगीत, मेरे लिए उनके प्यार को इनके माध्यम से देखती हूं। मैं उन्हें हर दिन उनके माध्यम से देखती हूं। दुनिया हर दिन बदलती है और जीवन हमारे द्वारा साझा की गई यादों के माध्यम से चलता है। मैं वास्तव में मानती हूं कि मृत्यु अंत नहीं है। यह जारी रहने वाला है….आगे और आगे वाजिद, अनंत काल में कई रोमांचक यात्राओं के लिए।

देखिए, साजिद का पोस्ट

साजिद खान ने अपने दिवंगत भाई वाजिद के साथ एक वीडियो शेयर किया है और लिखा कि, तुम कहा चले गए,,, तुम्हारे जाते हुए जीने का मजा भी चला गया :: मिस यू मेरे भाई वाजिद,,,लव यू हमेशा। बता दें कि, कुछ समय पहले पत्नी कमलरुख एक न्यूज पोर्टल को दिए इंटरव्यू के दौरान कहा कि,वाजिद एक अद्भुत व्यक्ति, एक प्रतिभाशाली संगीतकार थे, लेकिन अगर उनमें कोई दोष था, तो ये था कि वह मजबूत दिमाग वाले बिल्कुल भी नहीं थे। कमलरुख के मुताबिक, वाजिद को आसानी से प्रभावित किया जा सकता था, खासकर विश्वास के मामलों में।

कमलरुख ने खुलासा किया था कि, वो दो बच्चों के होने के बाद भी लड़ते थे। आखिरकार वाजिद ने साल 2014 में उन्हें  तलाक देने की धमकी दी। आगे कहा था कि, वह घर छोड़ कर अपनी मां के पास रहने चले जाया करते थे। कभी-कभी तो महीनें के अंत तक नहीं आते थे। जिसकी वजह से मैं तलाक के लिए राजी हो गई। हालांकि, अदालत में भी, मैनें धर्मपरिवर्तन के लिए दबाव की बात को अपना मामला बनाया। वाजिद का करियर दांव पर था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *